SEO Kya Hai – SEO क्या है – SEO Full Form – WHAT IS SEO IN HINDI In 2022

5/5 - (3 votes)

SEO Kya Hai यह 2022 में Search Engine Optimization के लिए Ultimate गाइड है।

दोस्तों आपने कभी नोटिस किया है, जब आप कभी किसी सर्च इंजन पर कोई Queries Search करते है तब जो Results आपको Search Engine के सबसे Top पर Show होते उसी Blog पर जाना आप पसंद करते है, आप उसी Website पर सबसे ज्यादा Click करते हैं जो Results सर्च इंजिन के Top पर Show होते है।

ऐसा क्यों होता है? कुछ Websites Google जैसे सर्च इंजिन पर सबसे उपर Show होते है वही पर कुछ ब्लॉग या फिर वेबसाइट उसी के नीचे होते है?

तो दोस्तों इसका Simple Reason है SEO, किसी भी वेबसाइट को Search Engine पर कहा पर Ranking देनी चाहिए यह Decide होता है उस वेबसाइट के Search Engine Optimization (SEO) से।

मतलब किसी भी ब्लॉग या फिर वेबसाइट को गूगल पर किस Position पर रखा जायेगा यह Depend करता है कि उस वेबसाइट के Owner ने अपने ब्लॉग को किस प्रकार से Optimize किया है।

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन को अगर हम सरल भाषा में समजे तो, किसी भी खोजी इंजन के कुछ Key-factors, Rules या कुछ Parameters होते है जो किसी भी वेबसाइट को Search Results Page पर रैंकिंग करने का काम करती हैं।

आपकी Site जितने इन Rules को Follow करती हैं उतना ही अच्छा आपके वेबसाइट का SEO समजा जाता हैं और उससे आपके Site को Ranking दी जाती हैं।

So Friends make sure की आपकी वेबसाइट इन Search Engine के Rules को ज्यादा से ज्यादा Follow कर रही हो।

SEO बेहतर ढंग से समझने के लिए कि आप अपने कंटेंट को खोज इंजन में कैसे उच्च रैंक कर सकते हैं, आपको पहले यह समझना होगा कि खोज इंजन (search engine) कैसे काम करती है।

सर्च इंजन क्या है?

खोज इंजन (search engine) ऐसे कंप्यूटर प्रोग्रामिंग होती है जो किसी भी कंप्यूटर सिस्टम में संग्रहित इच्छित सूचना को कम से कम समय मे ढूंढ निकालने का काम करती है।

इंजन किसी भी Query को सर्च इंजन रिसल्ट पेज (serp’s) मे प्राप्त परिणामों को एक सूचि (list) के तौर पर प्रस्तुत करते है और सूचना को ओवरलोड होने से बचाते है।

वर्ल्ड वाइड वेब (www) जानकारी खोजने के लिए इस्तेमाल किया जानेवाले सर्च इंजन का सबसे सामान्य रूप है। आज सभी सर्च इंजन जानकारी खोजने के लिए World Wide Web का उपयोग करते हैं।

वेब खोज इंजन कैसे काम करता है?

एक सर्च इंजन निम्नलिखित कमांड के साथ काम करता है

  1. वेब क्रॉलिंग (Web crawling, Spider)
  2. अनुक्रमण (Indexing)
  3. खोज रहा है (Searching)

1. वेब क्राउलिंग (Web crawling)

एक वेब क्रॉलर एक इंटरनेट बॉट है, जिसे कभी-कभी स्पाइडर या स्पाइडरबॉट कहा जाता है और अक्सर क्रॉलर के रूप में छोटा किया जाता है जो व्यवस्थित रूप से वर्ल्ड वाइड वेब को ब्राउज़ करता है ।

वेब क्राउलर्स को वेब स्पाइडरिंग या वेब Indexing के उद्देश्य से सर्च इंजन द्वारा संचालित (operate) किया जाता है।

वेब क्रॉलिंग या स्पाइडरिंग सॉफ़्टवेयर को वेब खोज इंजन और कुछ अन्य वेबसाइटों द्वारा अपने वेब कंटेंट को उपडेट करने के लिए उपयोग करती हैं।

Web Crawlers का उपयोग वेब स्क्रैपिंग और Data-driven Programming के लिए भी किया जा सकता है।

2. अनुक्रमण (Indexing)

सर्च इंजन के संदर्भ मे इंटरनेट पर वेब पेज खोजने के लिए डिज़ाइन किये इस Process को अनुक्रमण (Indexing) कहते है।

Search Engine Indexing डेटा का संग्रह, विश्लेषण और भंडारण है जो तेजी से और सटीक सूचना पुनर्प्राप्ति की सुविधा प्रधान करने का कार्य करती है।

3. खोज रहा है (Searching)

एक Web Search Query एक क्वेरी है जिसे उपयोगकर्ता अपनी जानकारी की जरूरतों को पूरा करने के लिए वेब सर्च इंजन में प्रवेश करता है।

FAQ’s

आज के टाइम मे सभी सर्च इंजिन मे जानकारी ढूढ़ने के लिए वर्ल्ड वाइड वेब (www) का प्रयोग करते है.

खोजी इंजन मुख्यत: 4 प्रकार के होते है जो निम्नलिखित हैं

1. क्रॉलर आधारित खोज इंजन (crawler based search engine)

2. निर्देशिका आधारित खोज इंजन (directory based search engine)

3. हाइब्रिड खोज इंजन(hybrid search engine)

4. मेटा खोज इंजन(meta search engine)

SEO क्या है (SEO Kya hai)

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन यह एक प्रोसेस है जो विभिन्न Search Engine पर किसी शब्द की खोज करने पर दिखाए जाने वाले ऑर्गेनिक परिणामों में प्रदर्शित होने के लिए अपनी वेबसाइट को अनुकूलित (customized) करता है।

आपकी वेबसाइट पर ट्रैफ़िक की गुणवत्ता और मात्रा में सुधार के लिए एक अच्छी SEO रणनीति आवश्यक है।

SEO का फुल फॉर्म Search Engine Optimization होता है। Google और अन्य खोज इंजनों के Search Results में आपके Web Pages को एक उच्च स्थान पर पहुँचाने के लिए Site को Optimize करने की Practices है। इसका मतलब है कि ऑनलाइन खोज करते समय लोगों को आपकी वेबसाइट मिलने की अधिक संभावना होगी।

SEO ऑर्गेनिक उर्फ Non-paid परिणामों में रैंकिंग में सुधार पर केंद्रित है। यदि आपके पास एक वेबसाइट है और आप अधिक ट्रैफ़िक प्राप्त करना चाहते हैं, तो इसमें कोई संदेह नहीं है: SEO आपके मार्केटिंग स्ट्रेटेजिस का हिस्सा होना चाहिए।

SEO काम कैसे करता है – (SEO Kaise kam karta hai)

खोज प्रणाली अनुकूलन (SEO) आपकी साइट को ऑप्टिमाइज़ करके उसे सर्च इंजन पर रैंक करता है जिसके लिए आप रैंक करना चाहते हैं , चाहे वह YouTube, Bing, Amazon या Google हो।

विशेष रूप से, आपका काम यह सुनिश्चित करना है कि सर्च इंजन आपकी साइट को किसी व्यक्ति के सर्च के लिए सबसे सर्वोत्तम परिणामों (results) के तौर में देखे

Search engine अपने users के लिए “सर्वश्रेष्ठ” परिणाम कैसे निर्धारित करते हैं?

जैसा कि हम जानते है की खोजी इंजन एक एल्गोरिथ्म पर आधारित होता है जो खाते के अधिकार (authority), क्वेरी की प्रासंगिकता, लोडिंग गति (loading speed) और बहुत कुछ को ध्यान में रखता है जिससे की End Users को बेस्ट से बेस्ट Results प्रदान कर सके।

(उदाहरण के लिए, Google के एल्गोरिथम में 200 से अधिक रैंकिंग कारक हैं।)

ज्यादातर मामलों में, जब लोग “सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन” के बारे में सोचते हैं, तो वे “Google SEO” के बारे में सोचते हैं। यही कारण है कि हम इस गाइड में आपकी साइट को Google के लिए Optimize करने पर ध्यान केंद्रित करने जा रहे हैं।

गूगल अल्गोरितम (Google’s algorithm):

प्रत्येक परिणाम को अपने Search Engine Result Page (serp’s) मे कितनी रैंक देनी है यह निर्धारित किया जाता है Google के एल्गोरिथम से। और हालांकि Google के एल्गोरिथम के कुछ हिस्से गुप्त रहते हैं।

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन में वर्षों के अनुभव ने हमें सबसे महत्वपूर्ण रैंकिंग कारकों के बारे में जानकारी दी है। इन रैंकिंग कारकों को दो श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है

  1. On-Page SEO
  2. Off-Page SEO

SEO के प्रकार:

1. On-Page SEO

ऑन-पेज एसईओ आपकी रैंकिंग में सुधार के लिए Content Build करने के बारे में है। On-Page seo मे Pages और Content में कीवर्ड को शामिल करने, नियमित रूप से High Quality वाली Post लिखना प्राय; शामिल होते है।

यह सुनिश्चित करे कि आपके मेटाटैग और शीर्षक (title’s) अन्य कारकों के साथ-साथ Keyword-rich और अच्छी तरह से लिखे गए हो।

On-Page SEO कैसे करे?

अपने site का Best On Page SEO करने के लिए आपको निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना होगा

  1. E-A-T

E-A-T जो विशेषज्ञता Expertise, Authorship and Trustworthiness. Google हमेशा High Quality वाले Premium कंटेंट को ही ज्यादा प्राधान्य देता है।

जो Site Quality कंटेंट Create करते है उन Website को Google अपने serp’s मे Top रैंकिंग देता है वही जो Site Low Quality Content Create करते है उन Site को Less Visibility मिलती है।

  1. Title Tag

शीर्षक टैग, एक HTML टैग जो प्रत्येक वेबपेज के मुख्य भाग में मौजूद होता है, जो किसी विषय का प्रारंभिक संकेत या संदर्भ प्रदान करता है।

Title Tag का Organic Ranking मे कम प्रभाव डालने की वजह से इसे कभी-कभी नजरंदाज किया जाता है।

डुप्लिकेट, खराब लिखे गए शीर्षक टैग सभी आपके SEO परिणामों को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकते हैं, यह सुनिच्छित करे की आप इसे Optimization के तौर पर Use करे।

  1. Meta Description

Meta Tags, Meta Description यह Serp’s मे Page के Title के नीचे प्रदर्शित होते हैं जिसका काम पेज के बारे में Short मे Information देना होता है।

मेटा विवरण को सही तरह से Optimize करने से आपको इनमे मदद मिल सकती है

  • Click-through rate (CTR).
  • Serp’s मे quality results
  • आपके वेबसाइट की धारणा (perception)
  • Headlines

क्या आप चाहते है कि आपकी वेबसाइट सर्च Results मे अच्छा प्रदर्शन करे? तो आपको सम्मोहक, सुर्खियोंवाली Headlines लिखना चाहिए।

विजिटर द्वारा क्लिक और इंप्रेशन के बीच सिर्फ एक महान शीर्षक का अंतर हो सकता है।

इसलिए आप अपने पोस्ट के लिए आकर्षक शीर्षक लिखने की Practices करे जिससे की SERP’s Results मे अलग दिखने के लिए और दिलचस्पी जगाने मदद हो सके।

  1. Header Tags

Header tags (H1-H6) का Use आपके पोस्ट मे Headings और Subheadings और Paragraph Text को अलग दिखाने के लिए होता है।

हेडर टैग विजिटर को पढने के लिए आपके कंटेंट को आसान और अधिक मनोरंजक बनाने मे सहायक ठरते है।

  1. SEO Writing

SEO राइटिंग का मतलब सर्च इंजन और यूजर्स दोनों को ध्यान में रखकर कंटेंट लिखना है।

याद रखें कि आप लोगों के लिए सामग्री लिख रहे हैं – इसलिए वह सामग्री(content) उच्च-गुणवत्ता, पर्याप्त और प्रासंगिक होनी चाहिए।

  1. Keyword Cannibalization

किसी एक Keyword पर अपने Site के मल्टीपल पजेस् को Target करना मतलब ‘Keyword Cannibalization’

अगर आप Keyword Cannibalization करते है तो अंत में आपके बहुत से पजेसे एक ही Keyword पर रैंक करने से आप खुद ही खुद के Compititor बन जाते है।

  1. Image Optimization

अपने वेबपेजेस को अधिक आकर्षक बनाने के लिए चित्र जोड़ना एक अच्छा तरीका है। Images को अच्छे से Optimize करने से यह आपके वेबसाइट के Asset मे से एक बन सकते है।

Image Optimization करने के कुछ फायदे है जैसे:

  • आपको अधिकतर Ranking Opportunities मिल सकती है
  • प्राय; Google Image Search section मे दिखना।
  • Better User Experience.
  1. User Engagement

अपने वेबसाइट को On-page SEO के लायक बनाना ये आधी जंग जितने समान है और बाकी आधी की आप सुनिच्छीत करे की आपके Site के युसर्स् Bounce ना हो और वे Content को पढ़ना जारी रखे, आपके साथ
मेलजोल बढ़ाये, और Visitors अधिक Valuable के लिए Site पर वापस आते रहें।

Viewers को अपने वेबसाइट पर बनाये रखना यह अपने आप मे एक चुनौती है पर नामुंकिन नही।

Site का User Engagement बढ़ाने के लिए, साइट की गति, उपयोगकर्ता अनुभव और सामग्री अनुकूलन (content optimization) जैसे पहलुओं पर ध्यान देना होगा।

2. Off-Page SEO

खोज इंजन परिणाम पृष्ठों (SERPs) में आपकी रैंकिंग को प्रभावित करने के लिए आपकी अपनी वेबसाइट के बाहर की गई गतिविधिओंको ऑफ पेज seo कहा जाता है।

यह मुख्य रूप से लिंक बिल्डिंग रणनीति, सोशल मीडिया एकीकरण और स्थानीय एसईओ पर आधारित है।

ऑफ पेज एसईओ यह बिल्कुल ऑन पेज एसईओ के विपरीत है, इसमे हम अपनी साइट की विश्वसनीयता बढ़ाने के लिए किसी अन्य वेबसाइट से Backlink प्राप्त करते है।

यह सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म की उपस्थिति का भी उपयोग करता है जो प्रभावी रूप से Site Engagement और एक्सपोजर को बढ़ा सकता है जो आपकी Brand Awareness और भरोसेमंदता स्थापित करने का एक शानदार तरीका है।

Off-Page SEO कैसे करे?

  1. Link Building

Link Building करते समय आपको High Quality Link मतलब किसी High Domain और Page Authority वाले वेबसाइट से लिंक करनी है जो आप ही के Nich और Topic से Releted हो।

Naturally लिंक बिल्ड करने के लिए आपको Great Content Provide करने की जरूरत पड़ेगी और उस Content को सही लोगों के लिए Visible बनाने के लिए आपको एक अच्छी प्रचार योजना की आवश्यकता होगी।

  1. Brand Mentions

2017 मे Google Webmaster Trends Analyst Gary Illyes ने कहा था, अगर आपके पास थोड़े Backlink, अच्छे Quality का Content, लोग आपके ब्रांड के बारे मे चर्चा करते है तो आप सही जा रहे है।

ब्रांड की Authority और Trust बिल्ड करने के लिए आपको Social Engagement बढ़ानी होगी और जितना ज्यादा हो सके उतना आपको Customers को Value Provide करना होगी।

  1. Blog Commenting

दुसरों के Blog पर Comment कर उसे अपने Website से जोड़ना यह Backlink बनाने की सबसे सिंपल और Fast तरीको मे से है।

Blog Commenting आपको उस Website के Owner और बाकी दूसरे Commenters के साथ Relationship Build करने मे मदत करता है।

  1. Guest Posting

समय-समय से Guest posting लिखना यह आपके वेबसाइट के लिए Quality Backlink बनाने मे सहायता करता है जिससे की आपके Site पर Organic Traffic आने की ज्यादा संभावना रहती है।

साथ ही साथ दूसरे वेबसाइट के Visitors आपको जानने लगते है, इससे आपका Brand Exposure बढ़ता है।

Search Engine Optimization के क्या फायदे है? और वेबसाइट के लिए क्यो जरूरी है?

1. SEO (Search Engine Optimization) का लक्ष्य किसी वेबसाइट या वेब पेजों के समूह के लिए उच्चतम संभव SERP रैंक प्राप्त करना होता है।

2. एक रिसर्च से पता चला है, Google जैसे अन्य Search Engine पर Users के जरिए जितने भी Query Search किये जाते है उनमे से 65% Users Serp’s के पहले 5 Top Results पर Visit करना पसंद करते है। SERP’s के Top रिसल्ट मे आने के लिए आपको SEO का सहारा लेना होगा।

3. Search Engine Optimization के जरीये आप अपने Business के लिए Client, Customer या Lead Generate कर सकते है।

4. सर्च इंजन अनुकूलन द्वारा आप अपने वेबसाइट की Domain और Page Authority बढ़ा सकते है।

5. SEO से आपके Site पर जो Organic Traffic आता है उस Organic Traffic की वजह से आपके Ad-sence का CPC बढ़ने के Chances High रहते है।

6. Search Engine Optimization की सहायता से आपको Google से High Quality का Traffic मिलने की संभावना होती है जिससे कि आपके वेबसाइट User Experience बेहतर होता है।

7. सर्च इंजन अनुकूलन सर्च इंजन के साथ-साथ User Experience और वेबसाइट की उपयोगिता में सुधार करते हैं।

8. उपयोगकर्ता खोज इंजन पर भरोसा करते हैं और उपयोगकर्ता द्वारा खोजे जा रहे कीवर्ड के लिए जो Result Page’s Top Position पर Rank होने से वेबसाइट परविश्वास बढ़ता है।

SEO Strategies: Black Hat Vs. White Hat

White Hat seo:

White Hat SEO ये Serp’s मे #1 रैंकिंग हासिल करने के लिए use किये जानेवाले SEO Tactics मे से एक है।

सर्च इंजन के Term एंड Conditions और Rules को follow करके किये जानेवाले SEO को White Hat SEO कहा जाता है।

White Hat SEO techniques:

  1. Users को quality Content और Services Provide करना।
  2. अपने Site को Fast Loading Speed के साथ Mobile-friendly बनाना।
  3. Google किसी भी Page के Content को समझने के लिए उसके url को Noticed करता है, अपने वेबसाइट का url Short और Keyword Rich बनाये

Black Hat SEO:

Black Hat SEO यह पूर्णरुप से White Hat SEO के Opposite होता है।

जैसे White Hat Search Ingine के Guidelines को Follow करती है ठीक इसके Opposite Black Hat मे ऐसे Strategies, टेकनीक्स, और टैटिक्स का प्रयोग किया जाता है जो सर्च इंजन के Rules को Follow नही करती।

ब्लैक-हैट का ज्यादातर Focus सर्च इंजन के एल्गोरिथम मे खामियों को खोजने और उनका दोहन करने पर केंद्रित होता है।

इस SEO मे Creator’s का उद्देश किसी भी हाल में Search Engine मे Rank करना होता है बजाए इसके की Users के Need और Intention को Satisfy करने के।

Balck Hat मे Google जैसे Search Engine के Guidlines को तोड़ा जाता है

SEO strategies in hindi. Black Hat SEO vs. White Hat SEO

Black Hat SEO techniques:

  1. Keyword stuffing
    Search Result Page पर Rank करने के लिए Post मे अतिरिक्त और Irrelevent Keyword का इस्तेमाल करना मतलब Keyword Stuffing.
  2. Poor quality content
    Poor Quality Content का अर्थ जो Content आपके Visitors या Serchers के लिए कोई भी Value Add नही करता जिससे Users की Query Satisfied नही होती।

आपको ब्लैक हैट एसईओ से क्यों बचना चाहिए?

Black Hat SEO tactics आपके वेबसाइट को Google और अन्य सर्च इंजन से Banned कर सकती है।

Black Hat SEO के Technique के इस्तेमाल से आप Short Term के लिए अपने Website पर ज्यादा मात्रा Traffic तो Drive कर सकते है पर इससे आपकी Site Penalise हो सकती है।

कौन सी एसईओ तकनीक से बचना चाहिए?

‘Black Hat SEO’ आपको Short term मे results देती है पर साथ ही साथ इसके risk factors भी high है जिससे आपको बहुत बड़ा जुर्माना चुकाना पड सकता है।

अगर आप एक entrepreneur है और Long term entrepreneurial game खेलना पसंद करते है तो निश्चित रूप से ‘White Hat SEO’ यह तुम्हारी पसंद होनी चाहिए।

SEO के कौनसी टेकनीक्स Apply करनी चाहिए ये आप पर Depend करता है, आपके goals पर Depend करता है कि आपको Risk लेके Short Term मे Results चाहिए या Right Ways को Use करके Long Term मे।

‘White Hat SEO’ मे आप Human Audience पर Focus करते हो बजाए इसके की सिर्फ Search Engine पर ध्यान देना। जो की आपको Sustainable Business बनाने के तौर मे मदद होती है।

आप उन्हें सर्वोत्तम संभव सामग्री देने का प्रयास करेंगे और खोज इंजन के नियमों के अनुसार खेलकर इसे आसानी से सुलभ बना सकते हैं।

(Conclusion) SEO क्या है?

हमे आशा है आप हमारी इस SEO GUIDE के पोस्ट से आपको बहुत कुछ सीखने को मिला होगा। सबसे महत्वपूर्ण बात जो हमे SEO के बारे जानना होगा वो है की इस गेम में कोई भी Short cut नही है।

जैसे कि हमने जाना, सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (एसईओ) सर्च इंजन से वेबसाइट या वेब पेज पर वेबसाइट ट्रैफिक की गुणवत्ता और मात्रा में सुधार करने की प्रक्रिया है।

अगर आपको इस फील्ड मे भीड़ से अलग दिखना है और Long term तक टिके रहना है तो आपको इसे सही Way मे Use करना होगा।

आप चाहते हो की आपका वेबसाइट Google पर टॉप रैंक करे तो इसमे कम से कम 6 Month देने पडेंगे, अपने पोस्ट को रेगुलर Basis पे Update करते रहना होगा। Google पर टॉप रैंक पर रहने के लिए अपने Site पर नये Content बनाना जारी रखे।

आपको क्या लगता है कि SEO मार्केटिंग में सबसे महत्वपूर्ण Factor क्या है?

Comment मे बताये।

(FAQ’s) What Is SEO In Hindi

SEO का फुल फार्म क्या है?

SEO का फुल फॉर्म Search Engine Optimization होता है जिसे हिंदी मे खोज इंजन अनुकुलन कहा जाता है. Basically SEO का काम आपके वेबसाइट को Serp’s के Top मे #1 Position दिलाना होता है

SEO मे सफल होने के लिए कितना समय लगता है?

SEO सफलता पाने का fast track नही है और ना ही कभी था। Search engine मे किसी भी keyword को रैंक होने मे छह महीने से लेकर एक साल तक का समय लग सकता है इसलिए जब बात SEO की हो तो आपको patience के साथ एक दीर्घकालिक योजना होनी चाहिए

Search Engine Optimisation मे मोस्ट Important फैक्टर क्या है?

जैसे शतरंज के खेल मे सभी मोहरे की अपनी एक Importance होती है वैसे ही SEO मे कोई एक नही बल्कि सभी factor महत्वपूर्ण है। मुझे लगता है, जिस पर आपको ध्यान देना चाहिए वह है लोगों को quality information प्रदान करना। ‘Content Is The King’ अगर आपके content मे दम नही होगा तो लोग आपमे interest नही लेंगे।

Google पर रैंक करने का सबसे अच्छा तरीका कोनसा है?

Google पर रैंक करने का सबसे अच्छा तरीका वह है नियमित रूप से लगातार प्रयास करना है (consistent effort). इसे जीतने के लिए आपको लगातार अपनी साइट के लिंक बनाना, नया content बनाना और पिछले content को अपडेट करना। ऐसा प्रतिदिन करने से मनचाहा results मिलेगा।

एसईओ की क्या Importance है

जैसा की आपने इस article मे जाना की कैसे SEO की मदत से आप अपने website को google पर top ranking हासिल कर सकते है जिससे की ज्यादा से ज्यादा visitors आपके website land करे।

seo क्यू करे?

Seo की वजह से customers की quality और quantity प्राप्त कर अपने business को बढ़ा सकते हो।

Harsh Walde

मैं formally आपसे अपना परिचय करा देता हूँ: My name is Harsh walde और मैं technology और internet marketing के बारे में passionate हूँ. औपचारिक तौर पर मैं एक इंजीनियरिंग स्टुडेंट् हू और पेशे से अब मैं एक Blogger हूँ.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.