PPC kya hai [full form] | What Is PPC In Hindi Guide 2022

4.8/5 - (5 votes)

PPC का Full Form है Pay Per Click जिसे हिंदी मे प्रति क्लिक भुगतान कहा जाता है। दोस्तों आज हम बात करने वाले PPC क्या है? इसे कैसे करा जाता है? और इसके फायदे और नुकसान क्या है?

आज के इस डिजिटलाईज जमाने मे हर कोई अपने व्यापार को डिजिटली Grow करना चाहता है। अपने बिजनेस को Offline से लेकर Online शिफ्ट करना चाहते है।

Online मे बिजनेस के लिए बड़ा मार्केटप्लेस मिलता है जिसमे कम समये मे लाखों लोगों तक अपने Brand को पहुचाया जा सकता है।

पे-पर-क्लिक मार्केटिंग एक विशाल पहुंच और विशिष्ट दर्शकों को लक्षित करने की क्षमता के साथ आती है।

आप इसका अधिकतम लाभ कैसे उठा सकते हैं?

Pay-Per-Click मार्केटिंग मे निवेश करना यह आपके बिजनेस मे अच्छा Return साबित हो सकता है (Paid advetising मे हर 100rs लागत में 200rs का मुनाफा हो सकता है) अगर PPC को सही तरीके के से नही करेंगे तो आप अपने पैसे को नुकसान (Lose) कर बैठेंगे।

यह सुनिश्चित करने में सहायता के लिए कि यहां पे-पर-क्लिक मार्केटिंग के लिए मेरा परिचय दिया गया है।

PPC मार्केटिंग क्या है | What Is PPC Marketing In Hindi

PPC इंटरनेट पर किये जाने वाले Advetising Model मे से है। विज्ञापनदाता अपने विज्ञापण को Search Engines, सोशल मीडिया प्लेटफोर्मस् और Third-party Websites पर दिखाते है। जहां Advertiser अपने Ad पर क्लिक किये जाने पर ही अपने होस्ट (मेजबान) को भुगतान करते हैं।

PPC का फुल फॉर्म Pay-Per-Click होता जिसका अर्थ प्रति क्लिक भुगतान है।

कॉस्ट पर क्लिक (CPC) विज्ञापनदाता (Advertiser) के जरीये सर्च इंजिन या इंटरनेट पर क्लिक किये हुए प्रत्येक Ad के लिए किया जानेवाला भुगतान है जो Visitors को Advertiser के वेबसाइट पर लेकर जाता है।

Pay Per Click display advertisements को Banner ads से भी जाना जाता है जो विज्ञापण से मिलते-जुलते कंटेंट पर आधारित वेबसाइटों पर दिखाये जाते है।

Pay-Per-Click विज्ञापनों का उपयोग करने वाली वेबसाइटें, Users द्वारा किसी प्रमुख Keyword Query और Advertiser की Search Keyword List के मेल किये जाने विज्ञापनों को दर्शाती हैं।

जैसे; अगर आपने ‘best hosting platform for websites’ कीवर्ड को सर्च किया होगा तब आपको Hosting Platform और उससे ही रिलेटेड वेबसाइट दिखाई देती है ना की Food, movie से रिलेटेड वेबसाइट और Advertisement.

Pay-per-click-advetising-example-image.jpg

Pay-per-click प्रदाताओं में, गूगल ऐडवर्ड्स, याहू! सर्च मार्केटिंग, तथा माइक्रोसॉफ्ट एडसेंटर तीन सबसे बड़े नेटवर्क ऑपरेटर है।

फेसबुक, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, रेडिट, पिंटरेस्ट, टिकटॉक और ट्विटर जैसे सोशल नेटवर्क्स ने भी पे-पर-क्लिक को अपने एक विज्ञापन मॉडल के रूप में अपनाया है।

यह भी पढ़े : पार्ट टाइम बिजनेस आइडियाज इन हिंदी

Pay Per Click विज्ञापन काम कैसे करता है | How PPC Model Work In Hindi

प्रति क्लिक भुगतान Advertising Model यह Search Keyword पर आधारित होता है।

उदाहरण के लिए, आपने सर्च इंजिन के SERP’s result page मे कइ बार Top Position पर Online ad. देखा होगा जिसे Sponsored links भी कहा जाता है, वह तभी दिखाई देते है जब Advertiser के प्रोडक्ट या सर्विसेस Keyword और आपके Search Keyword से संबंधित हो।

Pay per click Ads example image

Pay-Per-Click Model को हम Cost-Per-Click Model भी कहते है।

Cost Per Click को समझना

Cost-Per-Click को साधारणत; Marketers हि Use करते है। इसे चलाने के लिए Marketers को Daily के Basis पर Campaign Budget Set करने पडते है और जब Campaign का Budget पुरा होता है तब Advertise दिखना बंद हो जाती है।

For example, अगर किसी Website का CPC rate 10 cents है तो advertiser को पूरे 1000 click के लिए $100 pay करना पड़ेगा।

यहा पे सवाल उठता है, किसी भी advertisement का Cost Per Click कैसे निकाले?
तो Advertise का Cost-Per-Click निकालने के लिए आपको एक Formula लगाना होगा वो है, Cost Per Impression (CPI) divided by the Percent Click-through Ratio (%CTR).

Cost-Per-Click-image.jpg

PPC Campaign कैसे शुरू करे | How To Start PPC Campaign In Hindi

प्रति क्लिक भुगतान अभियान शुरू करने के 6 Steps है

1. अपने PPC बजट का पता लगाएं

आप अपने भुगतान-प्रति-क्लिक मार्केटिंग पर कितना खर्च करना चाहते हैं?

जब आप Ad Campaign चलाने वाले हो तब ही सोच ले की आपका Budget कितना है, कितने Cost तक अपना Ad run करवाने वाले हो।

किसी भी Ads को Create करने से पहले उसका Budget plan बनाना यह Ads के Success rates मे अहम भूमिका निभाती है।

Google Ads आपको कुछ ऐसे टूल्स Provide करता है जिसकी मदद से आप यह संभावना लगा सकते हो की आपके Budget पर कितने Click मिलेंगे।

यदि आपका बजट आपको Meaningful Results नहीं देता है, तो यह कुछ Marketing के दूसरे Alternative Methods Choose करना चाहिए।

2. अपने अभियान लक्ष्य निर्धारित करें (Set Your Campaign Goals)

अलग-अलग Businesses के लिए Pay-Per-Click Marketing के लिए अलग-अलग Goal हो सकते है।

जैसे मनलो आपका Satrt-up है, आपके Start-up के प्रति लोगों मे जागरुकता ( Awareness) लाने के लिए और Traffic बढ़ाना यह आपका Goal हो सकता है, मगर आप कोई प्रोडक्ट बेच रहे हो तो Ad Campaign चलाने के पीछे आपका main उद्देश्य Conversion करना होना चाहिय।

शुरुआत में सही Goals बनाकर Campaign शुरू करने से आप आपने right Audience तक पहुँच सकते हो जिसे आपको सही return of investmet (ROI) मिलती है।

3. पता लगाएँ कि किस प्रकार का अभियान चलाना है

PPC के अन्य तत्व जिसके बारे मे आपको सोचना चाहिए वो है आप किस प्रकार का अभियान चलाने जा रहे हैं। इसमे आपको कई सारे विकल्प है जिससे आप अपने Targeted Audience तक पहुँच सकते है।

Search ads: Search engine के result page के Top पर show होने वाले Ads

Social ads: social media platforms दिखने वाले Ads

Remarketing ads: आपके वेबसाइट पर पहले भी आये Visitors को Ads दिखना।

E-commerce ads: Google Shopping मे show होने वाले Ads जिनका मकसद Product बेचना होता है।

Instream ads: Video के पहले दिखने वाले Ads, Commonly ये हमें YouTube पर देखने को मिलते है।

Display ads: वेबसाइट पर banner के तौर मे show होने वाले Ads

4. अपने Keyword पर Research करें

खोजशब्द उन Main Tools में से एक हैं जिनका उपयोग आप अपने दर्शकों को लक्षित करने के लिए करेंगे।

Keyword आपके Campaign को बना या बिगाड भी सकते है।

Keyword की मदद से आप Users के Intent को समझ सकते हो उदाहरण के लिए, किसके द्वारा खरीदारी करने की अधिक संभावना है: “SEO क्या है?” Search करने वाला कोई व्यक्ति या “best keyword research tool?”

इसमे शायद वह दूसरा व्यक्ति है। आप Keyword की मदद से Buyer’s के खरीदारी करने की संभावना का पता लगा सकते हो।

5. अपने चुने हुए खोजशब्दों (Keyword) पर बोली लगाएं

अलग-अलग Platform पे अलग-अलग Bidding Option होते है जो समान्यत; आपके Goals पर निर्धारित रहते है।

आपके इच्छित लक्ष्य को Optimised करने के लिए Google Automatically आपके ओर से Bid करेगा।

लेकिन आपकी बोली पर अभी भी आपका कुछ नियंत्रण है। उदाहरण के लिए, यदि आप Ad क्लिक बढ़ाने के लिए Optimise करते हैं, तो आप अधिकतम बोली निर्धारित कर सकते हैं।

6.Create Keyword-focused Copy With Unique Landing Pages

लोगोंका आपके Ads पर Click कर आपके वेबसाइट पर Land होना ये उसका एक छोटा सा हिस्सा है जिसे हासिल करने की आप कोशिश कर रहे।

उसके बाद क्या जब Visitors आपके Landing Page पर आये।

आपका Landing Page उपयोगकर्ता द्वारा क्लिक किए गए विज्ञापन के लिए Relevent होना चाहिए। Users उस जानकारी तक त्वरित पहुंचना चाहते हैं जिसकी वे तलाश कर रहे हैं, और यदि आपका लैंडिंग Page उनके कीवर्ड के लिए Relevent नहीं है, तो वे Google पर वापस क्लिक करने में संकोच नहीं करेंगे।

पीपीसी मार्केटिंग मॉडल का उपयोग क्यों करे?

Business को Promote करने के लिए अगर आप Pay-Per-Click Model को Choose कर रहे हो तो आपको यह पता होने चाहिए की इसके Benefits क्या होने वाले है? और इसमे आपके पैसे को क्यों निवेश करना चाहिए?

त्वरित परिणाम:

जहाँ SEO मे Search Engine के Top Position मे आने के लिए आपको कई महीनों की मेहनत और Time को लगाना पड़ता था वही Pay-Per-Click Marketing मे अपना ad. को SERP’s मे Top Rank करने के लिए bid auction करने पड़ते है।

जिसकी वजह से आप जल्दी Click पाना चालु करेंगे और अपने Site पर Traffic आते हुए देखेंगे।

अगर आप PPC मे देखेंगे तो इसमे आपको Results जल्दी देखने को मिलेंगे यह बिल्कुल एक कारण है कि यह Marketers के बीच इतना लोकप्रिय क्यों है।

PPC को आसानी से मापा और ट्रैक किया जा सकता है:

Pay Per Click Marketing का एक और फायदा है वो है कि आप Google ads को Google Analytics से Combine करके आसानी से measure और track कर सकते है।

इसमे आप High-level Performance वाले विज्ञापन को Detail मे Analysis कर सकते हो, साथ ही Impressions, Click और Conversion rate को भी देख सकते है।

PPC Marketing के Famous Platforms जैसे; Google ads, Bing ads आपको Conversions सहित Order और Leads को Track करने की अनुमति देते है।

आप अपने ग्राहकों को पूरी तरह से लक्षित कर सकते हैं:

आप अपने Customers को जानते होगे और भी मालूम हो की Customers कब-क्या Search कर रहे है, इस Insight की मदद से आप Ad’s के जरिए सही Customers को Target कर सकते है।

कई विज्ञापन प्रारूप उपलब्ध हैं:

Pay-Per-Click model Use करने का एक और Reasons है, वो है आप इसमे कई अलग-अलग Type के Ad. Format को Use करके आप अपने Audience और Cutomers से Reach out बढ़ा सकते हो।

Pay per click विज्ञापन प्रारूप के कितने प्रकार होते है?

PPC मुख्यतः 4 प्रकार की होती है

1. Search advertising:

Internet Marketing मे Search Advertising यह Online Advertising करने का एक Method है जो Web pages के Serp result page मे Show होते है।

Search advertising.jpg

Search ads सर्च इंजन मे दर्ज किये गए Search Term (Keyword) से Releted Advertisement को Target किया जाता है।

ऑनलाइन उपयोगकर्ता के लिए, Sponsored Search Advertising बहुत ही बढ़िया परिणाम देता है जो Users के खुद के Search Queries पर आधारित होते हैं और इस प्रकार, Banner ads. या पॉप-अप विज्ञापन की तुलना में कम दखल देने वाले माने जाते हैं।

2. Display advertising:

Digital display advertising यह इंटरनेट वेबसाइटों, ऐप्स या सोशल मीडिया पर बैनर या टेक्स्ट, इमेज, वीडियो और ऑडियो से Graphic के जरीये किये जानेवाली advertising है।

Digital display advertising.jpg

Display advertising का मुख्य उद्देश्य Site के Visitors को सामान्य विज्ञापन और ब्रांड संदेश देना है।

3. Social media advertising:

Social media Users को सीधा advertisment देने के लिए उनके Profile data का उपयोग करके Ad’s को Optimize किया जाता है।

social-media-ads-image.jpg

इस प्रकार के Advertisement का लाभ यह है कि विज्ञापनदाता Users के Demographic Information (नाम, age, लिंग, occupation) के जरीये उन्हे Ad’s को Target करते है

4. Google Shopping

Shopping-advertisement-image

Google Shopping भी PPC advertisement का ही एक प्रकार है जिसमे E-commers website, retailer, दुकानदार अपने Shop के Products को Promote करने के लिए इसका उपयोग करते है जिससे कि उन्हे Qualified Lead मिल सके।

मुख्य Pay Per Click प्लेटफार्म:

Pay per click marketing के दो मुख्य platform है; Google Ads and Bing Ads.

आइए इन विज्ञापन प्लेटफ़ॉर्म पर एक नज़र डालें जिनका आप उपयोग करने पर विचार कर सकते हैं।

1. Google Ads

Google Ads जिसे Google Adword भी कहा जाता है जो Google द्वारा बनाया गया Online Advertising Platforms है।

विज्ञापनदाता (Advertiser) अपनी Services, Product listing या Advertisement के लिए बोली (bid) लगाते है। जो की वो Ads बाद मे Search Engine Result Pages मे दिखाते है साथ ही वेबसाइट, Videos और Mobile App मे भी Show होते है।

Google Adsence अभी के समय का सबसे बड़ा Advertisment Platform है। अपने Product या Services को Ads के जरीये Promote करने के लिए Publishers की पहली Choice AdSence ही होती है, पर यही अकेली Advertising Platform नही है।Microsoft Bing, Baidu जैसे दूसरे Advertising Companies भी है।

दुनिया भर मे 38 million से भी ज्यादा वेबसाइटों पर Google Adsence के जरीये Automated Ads चलाये जाते है। यह समझने मे और चलाने मे असान होने के कारण Publishers और Bloggers को अपनी ओर अकर्षित करता है।

Other Ad Networks:
Google Ads और Bing Ads ये अकेले Ads Network नही है इनके अलावा

AdRecover

RevContent

Amazon Ads

LinkedIn Ads

Facebook Ads

AdBlade

BuySellAds

AdRoll

Twitter Ads

Advertise.com

Bidvertiser

2. Microsoft Advertising (bing Ads)

Bing Ads जो Microsoft का Platform है। Bing Ads और Google Ads एक समान है बस फर्क इनमे Market Size और Customers Potential Reach का है।

PPC Campaigns के लिए Keyword Research और Competitor Analysis

Successful PPC Campaigns आँख बंद करके लॉन्च नहीं किए जाते हैं, उन्हे चलाने के लिए आपको निम्नलिखित बातोंको समझने के लिए अपना Time लगाना पड़ेगा

  1. आप किन Keyword पर अपनी bid लगानी चाहिए और उस Keyword की कितनी कीमत होगी।
  2. आपके Compititor किस Message के साथ और किन Keyword पर ads चला रहे है।

Semrush Keyword Magic Tool का Use करके आप अपने लाभदायक Campaign के लिए Keyword ढूंढ सकते है।

Keywor-magic-tool-research-data-image.jpg

Simply आपको Search Panel मे आपने Keyword को डालना है, आपको उन सारे Keyword की list मिलेगी जिसे आप अपने Campaign मे Use कर सकोगे.

Advertising-data-for-PPC-image.jpg

SEMrush advertising research tool आपको Full Insight Provide करता है जिससे आप अपने Compititor पर नजर बनाये रख सकते हो, उन्हे Monitor भी कर सकते हो की आपके प्रतियोगी क्या कर रहे है, किन Keyword पर ads चला रहे है, कोनसी Strategies Use कर रहे है, उन्हे कितना Traffic मिल रहा है और वे पीपीसी पर कितना खर्च करते हैं।

Pay per click विज्ञापन का लाभ

प्रभावी लागत (Cost effective): इसमे आपको तभी Pay करना पडता है जब Visitors आपके Site पर वास्तव में आता है। यह पैसे के लिए अच्छा मूल्य हो सकता है।

लक्षित (Targeted) – आप स्थान, भाषा और डिवाइस जैसी जनसांख्यिकी के अनुसार अपनी ऑडियंस चुन सकते हैं

Measurable – हर Ads पर लगने वाले खर्चों को आप Measure कर सकते हो साथ ही निवेश पर आपका रिटर्न कितना है यह निर्धारित कर सकते हैं।

अनुकूलन (Customisable)  – जब आप अपने अभियान चलाते हैं, तो आप सबसे अच्छा काम करने वाले के आधार पर सुधार करने के लिए कई छोटे समायोजन कर सकते हैं।

Training resources – आपके Skill को विकसित करने में मदद करने के लिए कई (अक्सर मुफ्त) ऑनलाइन Cources और Training सामग्री हैं.

तेज (Fast)  – ऑर्गेनिक सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (एसईओ) रणनीति में बदलाव लाने में महीनों लग सकते हैं वही
आप अपने प्रति क्लिक भुगतान प्रयासों का प्रभाव लगभग तुरंत ही देखेंगे।

भुगतान-प्रति-क्लिक विज्ञापन के नुकसान

पीपीसी विज्ञापन की कुछ चुनौतियों में शामिल हैं:

समय निवेश (Time investment)  – आप केवल अपने PPC अभियान को सेट करके उन्हें छोड़ नहीं सकते। सर्वोत्तम परिणाम प्राप्त करने के लिए आपको अनुकूलन और सुधार में समय लगाने की आवश्यकता है।

आवश्यक योग्यता (Skills required)  – प्रभावी अभियान स्थापित करने के लिए कुछ अभ्यास की आवश्यकता हो सकती है। कई व्यवसाय एक विशेषज्ञ एजेंसी का उपयोग करना चुनते हैं।

क्लिक और विज़िट से हमेशा बिक्री नहीं होती है – आपकी वेबसाइट पर पहुंचने के बाद आपको उपयोगकर्ता को ‘रूपांतरित’ करने के लिए राजी करना होगा।

PPC vs SEO

कम समय मे Quick results मिलते है
मनलो आप Sells मे हो और आपको कोई Product sell करना है तो जल्दी Results पाने के लिए PPC Choose करना है।

SEO मे Results पाने के लिए Long term के लिए Wait करना पडता है। अगर आप अपनी Services बेच रहे हो तो और Long Term खेलना है तो SEO ही बेस्ट Option है।

PPC क्या है [Conclusion]:

पीपीसी के सभी पहलुओं को पूरी तरह से सीखने, समझने, एक अभियान को Optimize करने और लाभदायक बनाने के तरीका सीखने में समय लगता है।

लेकिन इस Journey मे बहुत सारे महान मार्गदर्शक और Tools हैं जो आपको सफल Marketer में मदद कर सकते हैं।

Pay-Per-Click सबसे लोकप्रिय, सुरुवात करने मे आसान है जो आपके व्यवसाय के लिए एक लाभदायक मार्केटिंग चैनल हो सकता है।

अपना कुछ समय PPC को सीखने मे निकाले, इस बारे मे जाने की किसी अभियान (Campaign) को कैसे ठीक से लॉन्च करे, उसे किस प्रकार से Optimised करे।

क्या भुगतान-प्रति-क्लिक विज्ञापन आपके व्यवसाय के लिए एक बड़ी कमाई है? Comment करे।

FAQs

  1. PPC का Full Form क्या है?

    PPC का Full Form है Pay Per Click जिसे हिंदी मे प्रति क्लिक भुगतान कहा जाता है।

  2. क्या है Pay Per Click मार्केटिंग?

    विज्ञापनदाता Search Engine, Internet पर Advertise करते है, उन प्रत्येक क्लिक किये हुए Ads. के लिए किया जानेवाला भुगतान है।

Harsh Walde

मैं formally आपसे अपना परिचय करा देता हूँ: My name is Harsh walde और मैं technology और internet marketing के बारे में passionate हूँ. औपचारिक तौर पर मैं एक इंजीनियरिंग स्टुडेंट् हू और पेशे से अब मैं एक Blogger हूँ.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.